केंद्र सरकार ने लिया यूपी के पूर्व सीएम एवं समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के विरुद्ध कड़ा फैसला-

केंद्र सरकार ने उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की सुरक्षा में कटौती करने के लिए बड़ा फैसला लिया है|केंद्र सरकार ने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की जेड प्लस सुरक्षा वापस लेने का निर्णय लिया है अब ब्लैक कैट कमांडो का दस्ता अखिलेश यादव की सुरक्षा के लिए तैनात नहीं रहेगी तथा बहुत जल्दी सुरक्षा वापस लेने का निर्णय लिया जा रहा है, हाल में ही केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सीआरपीएफ के तहत सुरक्षा प्राप्त वीआईपी लोगों के सुरक्षा की समीक्षा की तथा इस समीक्षा के बाद ही एनएसजी कवर वापस लेने का फैसला लिया गया है|

इस फैसले से सरकार भी है सहमत-
समाज पार्टी गठबंधन की हार के बाद समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का गठबंधन टूट गया था, इस चुनाव में बहुजन समाज पार्टी को 10 लोकसभा सीटों और समाजवादी पार्टी को सिर्फ 5 लोकसभा सीटों पर जीत मिली थी यहां बड़ा फैसला लेने के साथ यह साफ नहीं है कि अखिलेश को दूसरे केंद्रीय बल की सुरक्षा मुहैया कराकर कटौती की जाएगी या पूरी तरह उनकी केंद्रीय सुरक्षा वापस ले ली जाएगी केंद्र में 2012 से अखिलेश को शीर्ष स्तर की वीआईपी सुरक्षा मुहैया कराई गई थी उनकी सुरक्षा में अत्याधुनिक हथियारों से लैस एनएसजी के करीब 22 कमांडो का दल तैनात किया गया है, केंद्र और राज्य की गुप्तचर एजेंसियों द्वारा खतरे के लिहाज से तैयार रिपोर्ट के आधार पर गृह मंत्रालय ने फैसला लिया है दो दर्जन अन्य वीआईपी की सुरक्षा भी या तो वापस ली जाएगी या उन पर कटौती की जाएगीl इस संबंध में सरकार का आदेश जल्द ही जारी होने वाला है सुरक्षा कटौती को लेकर दिया गया फैसला कोई नया नहीं है,

इससे पहले आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू और उनके परिवार के सदस्यों की सुरक्षा की कटौती देखने को मिली थीl चंद्रबाबू नायडू के बेटे नारा लोकेश की भी सुरक्षा घटाई गई थी इसके पहले उनके पास जेड श्रेणी का कवर था, जिसे ‘वाई’ कर दिया गया थाl

लोकेश अपने पिता चंद्र नायडू के मंत्रिमंडल में मंत्री थे, वर्ष 2003 में नक्सलियों ने नायडू को मारने का प्रयास किया था जिसके बाद से उन्हें जेड प्लस सुरक्षा मिली थी ,”जेड प्लस सुरक्षा” देश में किसी भी व्यक्ति को मिलने वाली सर्वोच्च सुरक्षा होती है साल 2012 में अखिलेश यादव के मुख्यमंत्री बनने के बाद केंद्र की तत्कालीन सरकार ने उन्हें यह सुरक्षा मुहैया कराई थी वर्तमान में अत्याधुनिक हथियारों से लैस 22 एनएसजी कमांडो का एक दल अखिलेश के साथ तैनात रहता है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here