शनिवार को लगी थी आग, अब तिब्बत का प्रसिद्ध मंदिर दोबारा श्रद्धालुओं से हुआ गुलजार……

बीजिंग: तिब्बत के सबसे पवित्र बौद्ध मंदिरों में से एक जोकांग मंदिर जहां शनिवार को भयंकर आग लग गई थी, आधिकारिक मीडिया रिपोर्टों के अनुसार इसे श्रद्धालुओं के लिए फिर से खोल दिया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि ल्हासा के प्रतिष्ठित मठ में आगजनी की घटना के बाद ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचा है।

यह मंदिर हिमालय क्षेत्र के दूरस्थ इलाके में स्थित है जो तिब्बती बौद्ध धर्म का आध्यात्मिक केंद्र माना जाता है। यहां हजारों तीर्थयात्री देश विदेश से दर्शन के लिए आते हैं। शिन्हुआ न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक, कल यहां तीर्थयात्रियों और पर्यटकों की एक लंबी लाइन लगी हुई थी।

शनिवार को शाम में 6:40 बजे मंदिर में आग लग गई जिसके बाद सभी को वहां से बाहर निकाल दिया गया था।

हालांकि आग की घटना में किसी के हताहत की कोई सूचना नहीं मिली। रिपोर्ट के मुताबिक, मठ के मुख्य हॉल में कुछ पानी के अंश को छोड़कर आग के कोई भी निशान नहीं देखे गए।

तिब्बती बौद्ध धर्म के इस प्रसिद्ध मंदिर का 1,300 साल से अधिक पुराना इतिहास है, यहां शाक्यमुनि बुद्ध के बड़ी प्रतिमा लगाई गई है। कहा जा रहा है कि तिब्बती बोद्ध भिक्षुओं के नए साल के समारोह के लिए यह मंदिर 19 से 22 फरवरी तक बंद रहेगा। इस साल तिब्बती नया साल शुक्रवार को स्प्रिंग महोत्सव के साथ मनाया गया। बता दें कि मंदिर को साल 2000 में यूनेस्को की विश्व धरोहर की सूची में शामिल किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here