विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने शिक्षक दिवस पर शिक्षकों को किया सम्मानित

भारत सम्मान (अनूपपुर)-
शासकीय तुलसी महाविद्यालय अनूपपुर में 5 सितंबर 2020 को डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्म दिवस के अवसर पर शिक्षक दिवस का आयोजन किया गया। इस अवसर पर प्राचार्य प्रोफेसर परमानंद तिवारी जी ने डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जीवन पर प्रकाश डालते हुए बताया कि महान शिक्षाविद, महान दार्शनिक, महान वक्ता विचारक, एवं भारतीय संस्कृति के 11वीं डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन विलक्षण प्रतिभा के धनी थे। भारत को शिक्षा के क्षेत्र में नई ऊंचाइयों पर ले जाने वाले महान शिक्षक डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म दिवस प्रतिवर्ष 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के सम्मान के रूप में संपूर्ण भारत वर्ष में मनाया जाता है। डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन 1952 में देश के पहले उपराष्ट्रपति, 1962 में देश के दूसरे राष्ट्रपति चुने गए। सन 1954 में शिक्षा और राजनीति में उत्कृष्ट योगदान के लिए भारत रत्न देकर सम्मानित किया गया।

शिक्षकों को सम्मानित कर, सभी ने प्राप्त किया आशीर्वाद –
इस अवसर पर विद्यार्थी परिषद के जिला संयोजक आशुतोष तिवारी जी ने  कहा कि गुरु-शिष्य परंपरा भारत की संस्कृति का एक अहम और पवित्र हिस्सा है। जीवन में माता-पिता का स्थान कभी कोई नहीं ले सकता, क्योंकि वे ही हमें इस रंगीन खूबसूरत दुनिया में लाते हैं। कहा जाता है कि जीवन के सबसे पहले गुरु हमारे माता-पिता होते हैं। भारत में प्राचीन समय से ही गुरु व शिक्षक परंपरा चली आ रही है, लेकिन जीने का असली सलीका हमें शिक्षक ही सिखाते हैं। सही मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करते हैं। इस अवसर पर पंडित शंभूनाथ शुक्ल विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ विनय सिंह जी भी उपस्थित रहे और उन्होंने भी अपने विचार रखें। शिक्षक दिवस के अवसर पर विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं द्वारा सभी शिक्षकों को शाल, श्रीफल, लेखनी भेंट कर शिक्षकों को सम्मानित किया व उनसे आशीर्वाद प्राप्त किया। इस अवसर पर महाविद्यालय के सभी शिक्षक व विद्यार्थी परिषद के हेमंत राठोर, सुभाष मिश्रा, संदीप रजक, सूरज राठौर व सभी कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here