सत्ता की हनक में नेता जी…दबाव में बिजुरी पुलिस

विवेचना में अटकी नेता जी की फाइल.!

भारत सम्मान (अनूपपुर)-
‘चाल-चरित्र-चेहरे’ के स्लोगन के साथ देश में एक नई विचार धारा के साथ नये दल का गठन भाजपा के पुरोधाओं ने किया था। जिसमें भाजपा के जनक सुचिता के पर्यायवाची हुआ करते थे। किंतु बदलते परिवेश में पार्टी का ‘चाल-चरित्र और चेहरा’ भी बदलता चला गया। किंतु अब दल में चेहरे की बात बेमानी हो चली है। सोशल मीडिया के इस दौर में हर हाथ में मोबाइल होना भी अब गुनाह हो चला है। यूं तो नेताजी मुख पुस्तिका में सदैव मुस्कुराते चेहरे के साथ नजर आते हैं, किंतु बीते दिनों व्हाट्सऐप जैसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म में उनके द्वारा की गई हरकत अब उन्हें मुँह छिपाने के लिये मजबूर कर रही है।

गृह नगर में हुआ मामला पंजीबद्ध –
उनकी सरकार उनकी सत्ता और उन्हीं के खिलाफ उनके गृह नगर में मामला पंजीबद्ध होना यह बताता है कि सोशल मीडिया में किये गये अपराध अब बख्शे नहीं जाएंगे। नेता जी का रसूख कितना भी बड़ा हो, वह किये गये अपराध के सामने बौना ही नजर आता है। बीते दिनों भाजपा प्रदेष कार्य समिति के सदस्य अनिल गुप्ता के द्वारा कोयलांचल के एक व्हाट्सऐप ग्रुप में अशलील तस्वीर डाली गई। जिसे बाद में उनके द्वारा यह कहकर कि मेरा मोबाइल कहीं और से ऑपरेट हो रहा है यह कहते हुये मामले से पल्ला झाड़ने का प्रयास किया गया। किंतु मीडिया की बदौलत पुलिस को मामला पंजीबद्ध करना पड़ा।

कहीं सत्ता का अनैतिक दबाव तो नहीं –
बिजुरी थाना प्रभारी आर.के. सोनी के अनुसार अपराध क्रमांक 285/20 आईटी एक्ट की धारा 67ए के तहत पंजीबद्ध कर मामले की विवेचना प्रारंभ कर दी है। किन्तु यहां पर पुलिस पर सवाल खडे़ होते हैं कि शिकायत के इतने दिनों बाद मामला पंजीबद्ध किया गया और उस पर आधी-अधूरी विवेचना के साथ कहीं यह सत्ता का अनैतिक दबाव तो नहीं नेता जी की मानें तो सोहागपुर थाने में उनके मोबाइल की गुमषुदगी की रिपोर्ट दर्ज है और उनका मोबाइल कोई और ऑपरेट कर रहा था।

सीडीआर व लोकेशन सहित विवेचना आवश्यक –
ऐसे में सवाल उठता है कि क्या पुलिस घटना दिनांक से मोबाइल गुमने के दिनांक तक सीडीआर निकालकर लोकेशन सहित क्या विवेचना करेंगी, यदि उक्त दोनो बातों की पुलिस निष्पक्षता से जांच करेगी तो सारा सच खुद-ब-खुद सामने आ जाएगा और यह भी साफ हो जाएगा कि घटना दिनांक को मोबाइल कहां से ऑपरेट हो रहा था और क्या घटना दिनांक को मोबाइल की लोकेशन सोहागपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत थी.? ऐसे कई सवाल हैं जिनके जवाब पुलिस को तलाशने चाहिये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here