धरमजयगढ़ में महिलाएं सवई घास से बना रही आकर्षक बास्केट व फ्लावर पॉट।

कलेक्टर भीम सिंह ने निरीक्षण कर कहा बढ़ाएं जाए रिटेल काउंटर।

रायगढ़। कैलाश आचार्य:- धरमजयगढ़ में महिलाएं सवई घास से बास्केट, फ्लावर पॉट, टी टोस्टर, डाइनिंग टेबल मैट निर्माण कर रही हैं। माहुल पत्ता से दोना पत्तल भी बना रही हैं। कलेक्टर भीम सिंह महिला समूहों का काम देखने पहुंचे। सीईओ जिला पंचायत ऋचा प्रकाश चौधरी भी साथ रहीं।
कलेक्टर ने महिला समूहों के काम की जानकारी ली। महिलाओं ने बताया कि सवई घास से सामग्री निर्माण का प्रशिक्षण वन विभाग द्वारा दिलवाया गया है। ओडि़सा से आये ट्रेनर्स ने ट्रेनिंग दी है। सवई घास से मुख्यत: झाड़ू का निर्माण किया जाता रहा है। लेकिन अब इससे घरेलू उपयोग के हेंडीक्राफ्ट आइटम्स भी तैयार किये जा रहे हैं। इसके लिए कच्चा माल आस-पास के गांवों से लाया जाता है। लोगों के बीच इन सामग्रियों की खासी मांग है।
कलेक्टर भीम सिंह ने प्रभारी अधिकारी को निर्देशित किया कि उत्पादन के साथ ही विक्रय भी बढ़ाया जाए। महिलाएं बहुत आकर्षक व गुणवत्तापूर्ण उत्पाद तैयार कर रही हैं। इनकी बिक्री के लिए भी बराबर फोकस करें। एक्सपोर्ट के साथ स्थानीय स्तर पर रिटेल काउंटर्स भी विकसित करें। जिससे समूहों का मुनाफा बढ़े व उत्पादन में भी बढ़ोत्तरी आये।
महिलाएं अभी वन मंडलाधिकारी कार्यालय में स्थित भवन में काम कर रही हैं। उनकी सुविधा के लिए उनके गांव के समीप तैयार हो रहे वन-धन केन्द्र को जल्द पूरा करने के निर्देश कलेक्टर ने दिए। इस दौरान एसडीएम धरमजयगढ़ संबित मिश्रा, सीईओ जनपद पंचायत सहित वन विभाग के अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here