क्राइम मीटिंग में एसपी संतोष सिंह ने आबकारी व जुआ-सट्टा की कार्यवाही बढ़ाने,गुंडागर्दी व आदतन बदमाशों पर सख्त कार्यवाही करने का मिला निर्देश।

अवैध शराब पर कार्रवाई में लापरवाही बरतने वाले थाना व बीट प्रभारी पर होगी कार्यवाही।

रायगढ़।कैलाश आचार्य:- एसपी संतोष सिंह द्वारा वर्ष 2021 की पहली क्राइम मीटिंग पुलिस लाइन उर्दना स्थित रक्षित निरीक्षक प्रशासनिक भवन के मीटिंग हॉल में लिया गया। इसके पूर्व माह जनवरी 2021 में पुलिस महानिरीक्षक बिलासपुर रेंज बिलासपुर द्वारा पुलिस कंट्रोल रूम में अपराध समीक्षा बैठक ली गई थी। आज दोपहर 1:00 बजे प्रारंभ हुई मीटिंग देर शाम तक चली। क्राइम मीटिंग के प्रारंभ में पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह द्वारा बहुचर्चित शिवांश अपहरण मामले में रायगढ़ पुलिस के सराहनीय कार्य के लिए सभी अधिकारी,कर्मचारियों को बधाई दी मीटिंग में सबसे पहले एसपी संतोष सिंह द्वारा अवैध शराब की कार्यवाही पर चर्चा किए उन्होंने कहा कि पुलिस टीम से पहले आबकारी की टीम आपके थानाक्षेत्र में कार्यवाही करती है इसका मतलब आपके थाना क्षेत्र का सूचना संकलन कमजोर है जो थाना प्रभारी व बीट प्रभारी की लापरवाही मानी जावेगी। उन्होंने तल्ख लफ्जों में कहा कि अवैध शराब पर कार्यवाही नहीं करने शिकायत/सूचना पर उनके द्वारा थाना व संबंधित बीट प्रभारी पर कार्यवाही की जावेगी, रायगढ़ पुलिस बेहतर काम कर रही है इसे बनाए रखना है क्राइम ग्राफ को बढ़ने ना दें, इसके लिए बेसिक पुलिसिंग पर कार्य करें अपराधों पर अंकुश लगाने लघु अधिनियम एवं प्रतिबंधात्मक कार्यवाही अधिक से अधिक करें। इसके बाद खरसिया अनुविभाग से ही अपराध समीक्षा बैठक प्रारंभ किया गया एक-एक कर सभी थाना,चौकी के लंबित अपराध,शिकायत तथा माह में की गई लघु एवं प्रतिबंधक्‍ कार्यवाही की समीक्षा कर उन्हें आवश्यक दिशा निर्देश दिये। उनके द्वारा सभी थाना प्रभारियों को नौकरी लगाने के नाम पर हो रही धोखाधड़ी पर अंकुश लगाने ऐसी शिकायतों पर तत्काल अपराध पंजीबद्ध की कार्यवाही करने के निर्देश दिए साथ ही ऑनलाइन फ्राड को रोकने जागरूकता कार्यक्रम आयोजन करने का निर्देश दिए। शिकायतों की समीक्षा में एक माह से अधिक लंबित शिकायत जांच को लेकर नाराजगी व्यक्त कर अनुविभागीय अधिकारी को निर्देशित किया कि लंबित अपराधों की समीक्षा कर एक माह के अंदर ही शिकायतों का निराकरण किया जाना सुनिश्चित करें। पुलिस अधीक्षक बताएं कि उनके द्वारा निगरानी बदमाशों को माफी में लाने हेतु जांच कर प्रतिवेदन भेजने निर्देशित किया गया है जिस पर थाना प्रभारी रुचि लेकर जल्द ही रिपोर्ट प्रस्तुत करें। मारपीट की शिकायतों को जांच में रखना गलत प्रक्रिया बताते हुये थाना प्रभारी को जल्द ही ऐसी शिकायतों पर अपराध पंजीबद्ध कर आगे की कार्यवाही करना निर्देशित किए। पुलिस अधीक्षक द्वारा सभी थाना, चौकी प्रभारियों को क्षेत्र में गुंडागर्दी व मारपीट करने वाले पर सख्त कार्यवाही के निर्देश दिए हैं। सीसीटीवी कैमरे की प्रगति की जानकारी लेकर प्रभारियों को क्षेत्र में जन सहयोग से अधिक से अधिक सीसीटीवी कैमरे लगवाने निर्देशित किए हैं प्रतिबंधात्मक कार्यवाही धारा 151,109,110 जाफौ की कार्यवाही को और बढ़ाने का निर्देश दिया गया है । समंस वारंट की तमीली, सीसीटीएनएस डाटा एंट्री सभी थानों में शत-प्रतिशत किया जावे, गुम इंसानों की रिकवरी ना केवल अभियान के दौरान ही करें बल्कि समय-समय पर टीम दिगर प्रांत भेजकर जांच में प्रगति लाने के निर्देश दिये गये। महिला संबंधी अपराधों विशेषकर पास्को एक्ट के मामलों में समय पर चालान न्यायालय पेश किया जाना सुनिश्चित करने को कहा गया है। वर्ष 2018, 2019 एवं 2020 की पेंडिंग की समीक्षा कराने पुलिस कार्यालय लेकर आने निर्देशित किये। उन्होंने कहा कि मोटर साइकिल चोरी पर कुछ समय पहले अच्छा अभियान चलाया गया था जिसे फिर एक बार प्रारंभ किया जाए विशेषकर जूटमिल, कोतवाली, चक्रधरनगर पुलिस को बाइक चोरी में प्रगति लाने निर्देशित किया गया। पुलिस अधीक्षक द्वारा अपराध समीक्षा बैठक में कर्मचारियों के अनुशासन पर थाना चौकी प्रभारियों को विशेष ध्यान देने कहा गया, वे गैरहाजिर अथवा अनुशासनहीन कर्मचारियों की सूची बनाकर भेजने प्रभारियों को निर्देशित किए साथ ही रात्रि में थाना लाये गए मुलजिम की सुरक्षा पर विशेष सतर्कता बरतने कहा गया है। साइबर पोर्टल व ऑनलाइन शिकायतों पर कार्यवाही के निर्देश के साथ ही मास्क की कार्यवाही आदेशानुसार अधिक से अधिक करने का निर्देश प्रभारियों को दिया गया है। क्राइम मीटिंग में सभी राजपत्रित अधिकारी, थाना, चौकी प्रभारी, एसपी रीडर, स्टेनो व शाखा प्रभारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here